श्री सत्यनारायण कथा श्रवण

AGP_3617

कलियुग में श्री सत्य नारायण की पूजा, कथा श्रवण एवं हवन करने तथा प्रसाद ग्रहण करने से जीवन में समस्त प्रकार के उपद्रव की शांति होती है। जो मानव सन्तान सुख, विवाह सुख, भौतिक संपदा का सुख प्राप्त करना चाहता हो, जो शत्रुओं द्वारा पीड़ित हो, जो स्त्री विवाह सुख एवं सन्तान सुख प्राप्त करना चाहती हो, जिसे स्वास्थ्य लाभ एवं धन लाभ प्राप्त करना चाहता हो, जो भूमि, भवन, वाहनादि का सुख चाहता हो, जो आजीविका का लाभ चाहता हो तो प्रत्येक माह श्री सत्यनारायण भगवान की पूजा, कथा श्रवण एवं हवन कर प्रसाद ग्रहण करना चाहिए तथा इस अनुष्ठान को एक वर्ष तक करने से समस्त बाधाओं का नाश एवं मनोभिलाषा पूर्ण होती है।

समग्री सहित दक्षिणा-रु. 11000