श्री तुलसी

श्री तुलसी1

श्री राधामाधव युगल भगवान गर्भगृह के मुख्य द्वार पर श्री तुलसी वन विद्यमान है एवं मंदिर परिसर में चारों तरफ श्री तुलसी जी विद्यमान है। यह श्रीकृष्ण भगवान को अत्यंत प्रिय हैं। इनके दर्शन मात्र से पापों का नाश होता है एवं प्रसाद स्वरूप इनका सेवन करने से अमंगलों का नाष, आयु, आरोग्य, लक्ष्मी एवं भक्ति प्राप्त होती है।